लिट्टी- चोखा —बिहार का प्रलिद्ध व्यंजन

Share & Spread the Knowledge

तो आज हम जानेंगे की लिट्टी चोखा का मजा आप सभी अपने–अपने घरों में खुद से बना के िे सकते

हैपरंतुउससे पहिे लिट्टी चोखा के विषय में कुछ जान िें।

● लिट्टी चोखा का इतिहाि

बबहार के लिए लिट्टी चोखा का महत्ि पश्चचम बंगाि के लिए रसगुल्िा के महत्ि के समान है। लिट्टी

चोखा, एक उल्िेखनीय व्यंजन जो बबहार राज्य से आता है, न के िि आज भारत में िोकविय है, बश्ल्क

विचि स्तर पर भी एक विशेष पहचान बनाई है।

बबहार का लिट्टी चोखा, जो हो सकता हैउनके िोकाचार के हहस्से के रूप में गुिेि और संस्कृतत, सहदयों

से उत्पन्न हुई थी। पहिे, मगध के दरबार में मुख्य भोजन के रूप में खाया जाता था। समय के बीतने के

साथ, इसने सबसे अच्छे और सबसे उपयुक्त को आत्मसात ककया। बबहार में आने िािी संस्कृतत में

बदिाि पराक्रमी मुगि श्जन्होंने शोरबा और पायस के साथ पकिान का स्िाद चखा, और विदेशी अंग्रेज जो

इसे करी के साथ पसंद करते थे, इत्याहद।

हािााँकक, लिट्टी एक ‘बहादरु लसपाही’ के रूप में उभरी, जब विद्रोहहयों ने1857 के विद्रोह के दौरान इस

पर िस्तुतः बच गया। तांततया टोपे, रानी िक्ष्मी बाई, और पसंद ने इसे अपने ‘अश्स्तत्ि के लिए भोजन’

के रूप में चुना। जंगिों में बबना ककसी बततन या ज्यादा पानी के बेक ककया जा सकता हैऔर खड्डों और

48 घंटों से अधधक समय तक खाने योग्य श्स्थतत में रहता है। नए शासकों के आने के दौरान इस व्यंजन में कई बदिाि हुए मुगि काि में सम्राटों को पायस और

शबतत 1-7 के साथ लिट्टी परोसा जाता था। आखखरकार, लिट्टी बबहार आ गई और उसे चोखा के साथ

जोडा गया। थेरश्स्टक पकाने के तरीके ने लिट्टी और चोखा में असिी स्िाद जोडा िेककन इन हदनों िोगों

के लिए देहाती जाना संभि नहीं है, इसलिए हम इसे या तो बनाते हैं गैस ओिन तंदरू या ओटीजी और

माइक्रो-ओिन। िेककन स्िाद ये लमट्टी में पके हुए से बबल्कुि अिग हैं।

अब हमने लिट्टी चोखे के इततहास के विषय मैंतो जान लिया।

लिट्टी चोखा खाने का उपयुक्ि िमय:–

आमतौर पर नाचते या रात के खाने के रूप में परोसा जाता है लिट्टी शाम के नाचते के रूप में भी काम

कर सकती हैजब इसे कॉफी या चाय जैसे पेय के साथ जोडा जाता है

अब जानते हैंइसे कै से बनाते हैं।

प्रेप टाइम कुककंग टाइम

20 min 35 min

आवश्यक िामग्री

● लिट्टी के आटे के लिए िामग्री :-

गेहूाँका आटा (Wheat Flour) – 2 कप

बेककंग सोडा पाउडर (Baking Powder) – 1 चुटकी

अज़िाइन (Thymol/Carom Seed) – स्िादानुसार

नमक (Salt) – स्िादानुसार

शुद्ध घी / देसी घी (Desi Ghee) – 2 चम्मच

पानी (Water) – आटा गूाँस्िादानुसार

● लिट्टी की स्टक ं ग के लिये िामग्री:-

सत्तू, खखिे चने का आटा(Sattu) – 1 कप

धतनया (बारीक कटा हुआ) (Coriander (finely chopped)) – 2 चम्मच

अदरक,बारीक कटा हुआ(Ginger) – ½ चम्मच

जीरा (Cumin Seed) – ½ चम्मच

किोंजी (Nigella Seed) – ½ चम्मच

नमक (Salt) – स्िादानुसार

नींबूका रस (Lemon Juice) – 1 चम्मच

सरसों का तेि (Mustard Oil) – 2 चम्मच

● चोखा िनाने की िामग्री:-

बैंगन (Brinjal) – 1 बडे साइज़ का

टमाटर िाि (Tomato) – 2 बडे साइज़ के

आिूमैश ककया हुए (Potato) – 2

प्याज़ (Onion) – 1 बारीक कटी हुई

िहसुन (Garlic) – ½ चम्मच पेस्ट

नमक (Salt) – स्िादानुसार

नींबूका रस (Lemon Juice) – 2 चम्मच

सरसों का तेि (Mustard Oil) – 2 चम्मच

लिट्टी चोखा िनाने की ववधध–

● लिट्टी के लिए आटा ग ूँधिये:-

एक बततन में गेहूाँके आटे को छान कर उसमें स्िादानुसार नमक, अजिायन और बेककंग सोडे के साथ

शुद्ध घी को लमक्स कर िीश्जये।

पानी की सहायता से इसका पराठे की तरह का नरम (मुिायम) आटा गूाँथ िीश्जये।

आटे को ढक कर 20 लमनट सैट होने रख दीश्जये।

● लिट्टी के लिए ित्त की स्टक ं ग िनाइये:

लिट्टी का भरािन बनाने के लिये एक बततन में चने का सत्तूिीश्जये और उसमें स्िादानुसार नमक,

अदरक, कटा हुआ धतनया एिं लमचत के साथ नींबूका रस और सरसों का तेि लमिा िीश्जये।

जरूरत के हहसाब से इसमें 1-2 चम्मच पानी लमिा कर भरािन को इतना गीिा कर िीश्जये श्जससे िह

िड्डू बनाने िायक हो जाये।

लिट्टी की स्टकफं ग तैयार है।

● भरावन भर कर लिट्टी िनाइये:-

तय समय के बाद थोडा घी िगा कर आटे को कफर से मसि कर धचकना करके उसकी 7-8 िोई बना

िीश्जये।

एक िोई िे कर उसको उंगलियों और अंगुठे की सहायता से प्यािी जैसा शेप दीश्जये।

अब इसमें 1-2 चम्मच स्टकफं ग भर दीश्जए।

आटे को चारों ओर से उठाकर भरािन को बंद करके गोि आकार दीश्जये।

आपकी लिट्टी बनकर तैयार है।

इसी तरह से सारी लिट्टी भर कर तैयार कर िीश्जए।

● कढ़ाई या पेन में लिट्टी को िेकने की ववधध :

लिट्टी को सेकने के लिए एक भारी तिे की कढाई को गैस पर गमत कीश्जये।

कढ़ाई को घी से धचकना करके हल्का गमत होने पर इसमें धचत्रानुसार लिट्टी लसकने के लिए रख दीश्जए।

कढा ा़ई को ढक कर लिट्टी को धीमी आाँच पर 3-4 लमतनट लसकने दीश्जए।

बीच-बीच में बार बार अिटते-पिटते हुए लिट्टी को चारों ओर से गोल्डन ब्राउन होने तक सेक कर

लिट्टी तैयार कर िीश्जए।

लिट्टी को पूरी तरह से लसकने में िगभग 20 लमनट का समय िगता है।

ये हो गई आपकी लिट्टी पूरी तरह से

िैंगन का चोखा िनाने की ववधध:-

बैंगन और टमाटर को अच्छे से धो िीश्जए, बैंगन को काट कर देख िीश्जए की िह अंदर से सही है की

नहीं।

टमाटर और बगैंन को तेि िगाकर धचकना कर िे और इसे गैस के जािी स्टैंड पर रख कर भून िीश्जये|तेि से धचकना कर िेने पर यह जल्दी पक जाते है। और तछिका भी आसानी से तनकि जाता है|

बीच-बीच में बगैंन और टमाटर को चारों ओर अच्छे से घुमाते रहें | श्जससे की यह चारों ओर से अच्छे

से भून कर या सेंककर तैयार हो जाए|

टमाटर और बगैंन भून कर तैयार हैं, इसे प्िेट में तनकाि िे| इसे ठंडा होने के बाद छीि िीश्जए|

अब बैंगन और टमाटर को हाथ से या मैशर से मैश कर िीश्जए। अब इस लमश्रण में अदरक, हरी

लमचत,हरा धतनया, िहसुन,मूिी,अचार का मसािा नमक और सरसों का तेि डािें और अच्छी तरह से

लमक्स कर िीश्जए।

अब बैंगन का चोखा बनकर तैयार है।

चोखा को प्यािे में डालिये, गरमा गरम लिट्टी को वपघिे घी में डुबाकर परोलसये

हरे धतनये की चटनी के साथ गरमा गरम. लिट्टी को भी तोडा जा सकता है

बीच में और कफर ऊपर से घी डािा जा सकता है, इस तरह पहुंच जाता है

भराई भी। सुगंध, जायके काफी हदव्य हैं

अपनी सभी इंहद्रयों को िश में करो।

िभी पययटकों की पिंद!!!

स्वाद मेंिदिाव एवं िनाने िम्िन्धी िुझाव :-

चोखे को चटपटा बनाने के लिये आप अचार के मसािे का उपयोग कीश्जये।

लिट्टी पर घी के िि स्िाद और सुगंध के लिये िगाया जाता हैअगर आपको घी पसंद नहीं तब बेक की

हुई लिट्टी खाइये बहुत टेस्टी िगेंगी।

चोखा बनाने के लिए यह जरुरी नही कक आप बैगन, टमाटर और आिूका ही इस्तेमाि करें, कुछ िोगो

को बैगन या टमाटर नही पसंद होता हैतब आप बबना इनके भी चोखा बना सकते है।

स्िाद में बदिाि के लिये चोखे में चाट मसािा पाउडर लमक्स कीश्जये यह स्िाद सभी को बहुत पसंद

आयेगा।

लिट्टी चोखा के कुछ िाभ:–

श्जन्हें डायबबटीज हैउन्हें लिट्टी चोखा जरूर खाना चाहहए। लिट्टी चोखा खाने से इंसुलिन िततरोधी

रोधगयों में हामोन विकार को तनयंबत्रत करने में काफी मदद लमिती है। सत्तूसे लिट्टी बनाई जाती है।

सत्तूभुने चने से तैयार ककया जाता है, जो इंसुलिन िततरोध की समस्या को तनयंबत्रत करने में मदद

करता है।

तो, अगर आपको मधुमेह है, तो बबना खििक इस स्िाहदष्ट व्यंजन का आनंद िें

कुछ िोग चोखा में टमाटर, आिूडािकर बैंगन तैयार करते हैं. हरी लमचत, अदरक के साथ आप कई

सश्जजयों के पोषक तत्ि एक साथ खाते हैं।

आटे का उपयोग 6 कूडे बनाने के लिए ककया जाता है। ऐसे में आप कई गेहूं और जौ के आटे का

इस्तेमाि कर सकते हैं। आटे में सत्तूका मसािा भरा हुआ है. लमश्री के सेिन से न लसफत आपको फाइबर

लमिता है, बश्ल्क यह शरीर की ऊजात को भी बरकरार रखता है।

गलमतयों में जब आप सत्तूका सेिन करते हैंतो आपको अके िापन महसूस नहीं होता है। इसमें फाइबर

काफी अधधक होता है, जहां पाचन सही रहता है, तो आज से आप स्िाहदष्ट तीखा तीखा खाना शुरू कर

दें।

लिट्टी चोखा मेंकै िोरी

लिट्टी चोखा की एक सवििंग (2 पीस लिट्टी और चोखा – 210 ग्राम) में मौजूद कै िोरी की औसत मात्रा

िगभग 290 कै िोरी होती है।

यहद सीलमत मात्रा में सेिन ककया जाए तो लिट्टी चोखा एक स्िस्थ भोजन विकल्प हो सकता है। यह

पोषक तत्िों से भरपूर व्यंजन हैऔर भरने िािा है। यह िजन िबंधन योजनाओं के लिए फायदेमंद

बनाता हैक्योंकक यह कै िोरी के अततररक्त सेिन को रोके गा।

यदद आप लिट्टी चोखा को अिग अिग अंदाज़ एवं वीडियो की िहायिा िे िीखना चाहिे हैंिो नीचे

ददए हुए लिंक पर क्क्िक करे।

https://youtu.be/ExuKNGhGllA

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 


Share & Spread the Knowledge

Leave a Comment